मामी के चूत़ की मादक सिसकारियां - Incest Sex Stories - Antarvasna मामी के चूत़ की मादक सिसकारियां - Incest Sex Stories - Antarvasna

मामी के चूत़ की मादक सिसकारियां

मामी के चूत़ :> हाय दोस्तों
मै रवि बरेली से ,मै हाज़िर हूं आपके लिए एक नई मादक और सेक्सी कहानी लेकर ।
मेरा लन्ड 8इचं लंबा और 4इचं मोटा है जो किसी भी औरत को स्वर्ग के द्वार पर पहुंचा सकता है….
तो आप सब अपना अपना लौड़ा और बुर को संभाल कर रखे नहीं तो पानी छूट सकता है।
ये कहानी विंटर सीजन में , मै अपने मामा के यहां गया था क्योंकि काॅलेज की छुट्टी हो गए तो 10-20दिन के लिए मामा के यहां चला गया। मामी के चूत़

मामी के चूत़

मै वहां जाकर मामा मामी और नाना से मिला
मामी मुझे देख कर खुश हो गई और बोली आओ रवि बहुत दिन बाद आए हो तो मै बोला मामी अब मै 20-25 दिन के लिए यही हूं ।
मै मामी के बारे में बता दूं मामी का नाम रुपा है ।
मामी गोरी सुन्दर नैन नक्श बड़ी बड़ी चूचियों की मालकिन थी।
मामी के सादी को 4 साल के बाद भी औलाद नही हो रहा था। जिससे मामी उदास रहती थी। जो मुझे भी परेशान कर जाता था।एक दिन मै पूछ ही लिया कि आप उदास क्यो रहती हो ….मामी बोली मेरे को बच्चा नहीं हो रहा है तो मै उदास ना रहूं तो क्या करू।

मैं थोड़ा सकपकाते हुए पूछा की सेक्स लाइफ कैसी चल रही है।
वो और भी उदास हो गई और मेरे से लग के बोली इसी के चलते तो मैं मां नहीं बन पा रही हूं।
मै दिलासा देते हुए कहा कि अगर वे किसी को ना बताए तो मै मदद कर सकता हूं ।
बोली कैसे …? मैं बोला आपके साथ सेक्स करके…।
इसके बाद वो बोली.. धत बदमाश…. मुस्कुरा के चली गई…
मैं समझ गया कि वो भी यही चाहती है।
मै अब मौका की तलाश में रहता था कि कब मामी के साथ चोदा चोदी किया जाए।
फिर एक दिन मौका मिल ही गया मामा और नाना किसी के यहां काम से गए थे और बोल के गए की २,३ दिन लगेगा।
मेरी तो जैसे में कि मुराद पूरी हो गई…
मै सुबह ही उन लोगो को ट्रेन पर बैठा कर आ रहा था और सोच रहा था कि मामी को कैसे कैसे चोदूंगा… आह क्या मज़ा आने वाला है…. मामी के चूत़

इसी में पता ही नहीं चला कि कब घर आ गया।
मैं दरवाजा नाक किया तो मामी खोली पारदर्शी मैक्सी पहनी हुई थी जिसमें से एक एक अंग झलक रहा था…उनको देखते ही मेरा लन्ड टाइट होने लगा…….
मैक्सी में से पैंटी पिंक कलर की ब्रा भी पिंक थी दिख रहा था पैन्टी टाइट थी जिससे बुर का दरार भी दिख रहा था=…..
मैं बोला आज क्या इरादा है मामी …वो बोली मुझे मामी नहीं रुपा कहा करो… फिर बोली इरादा क्या है बस तुम समझ ही रहे होगे….एक आंख भी मार दी…..कातिल मुस्कान के साथ…
मैं दरवाजा बंद करने के साथ ही मामी पर टूट गया और उनको चूमने लगा चूची दबाने लगा आह क्या मखमल की तरह चूची था …..मै मैक्सी उतार दिया और ब्रा के ऊपर से ही चूची को मसलने लगा और एक हाथ पैन्टी के अन्दर डाल कर बुर को छेड़ने लगा….

मामी एकदम लाल हो गई और मचलने लगी आह ऊई आह आह आह उह उह उह आईं कर रही थी मै कभी चूची की पिता और कभी बुर के दाने को मसल देता…
मामी पागल हो रही थी …बोली आह उह आईं रवि मत तड़पाओ मुझे अब चोद दो अपने लौड़े के साथ .. मामी के चूत़
मै भी अब सारे कपड़े उतार के नंगा हो गया…
मामी मेरा लन्ड देखा और कहीं कितना बड़ा और मोटा है तुम्हारा लन्ड तुम्हरे मामा का तो छोटा है जिसकी वजह से मै अधूरी ही रह जाती हूं …
मैं बोला आज पूरा कर दूंगा और रण्डी बना के तुम्हारा बुर चोदूंगा……

बोलीबब मैं तुम्हारी रण्डी ही हूं मेरे राजा …कहते हुए मेरा लंड चूसने लगी लंड चुस्वाने में बहुत मज़ा आ रहा था थोड़ी देर के बाद हम 69 पोजीसन हो गए
मै भी मामी के बुर को मज़े से चूस रहा था और वो मेरा लन्ड आह आह आह क्या मज़ा मिल रहा था कह नहीं सकता …
फिर मैंने मामी की टांगों को फैला कर बुर में जीभ डाल कर चोदने लगा मामी अाई उई मां आह उह आह उह आह उह आह की आवाजें निकाल रही थीं
बोली अब चोद दो मेरे बुर को रहा नहीं जाता…
मै लंड को बुर के छेद पर रख कर कस कर जोरदार तरीके से धक्का दिया फिर…..
फिर क्या ? बुर को चीरता हुआ अंदर तक घुस गया…..
मामी चिल्लाने लगी कहने लगी निकाल मादर चोद मै मार गई
अाई मा मेरा बुर फार दिया भोसडी का गालियां बकने लगी
जिससे मेरा लन्ड और टाइट हो गया और मुझे जिस आ गयायह कहानी आप incestsexstories.in में पढ़ रहें हैं। मामी के चूत़

मै रुका नहीं और बिना उसके गल्यो और तड़प की परवाह किए बुर को चोदना चालू रखा घपा घप भचा भच ……
वो रो रही थी गली दे रही थी मर मै नहीं माना चोदता रहा …
बुर को पेलता रहा थोड़ी देर के बाद उस रण्डी को भी मज़ा आ रहा था … अब उसकी गाली मादक आवाज निकाल रही थी… अाई उई उई उई मां आह उह उह आईं और
कह रही थी कि आज तुम तो मेरी जान निकाल दी
उई मां मेरा बुर अउच कस के चोदो अपनी रण्डी मामी को

आह उई कस के जोर से फार दो मेरी बुर को भोसड़ा बना दो मेरी बुर को फार दो आह आह उह उह आह..
पहली बार मुझे और मेरी बुर को इतना मज़ा मिला है आईं उई आह चोद मेरे राजा आह और चोद आह
अब वो अकड़ कर झरने के लिए तयार थी फिर वो आह आह उह आह उह आह उह आह करते हुए झड़ gayee
मैं अभी भी नहीं झड़ा मै चोदना जारी रखा कह रहा था
ले रण्डी कहीं और चुद्वा अपना बुर ले बुर में मेरा मोटा लंड ले अपनी बुर में फिर मै बाहर निकाल के कस कर बुर के जड़ तक घुसा देता वो चिहुंक उठती फिर वो तैयार हो गई और बोलती और जिरक्से चिदुझे आज तो असली चूद्वा रही ही हाई आह उह जोर जोर से चोद मै अब झरने वाला था बोला कहा गीराऊ बोली मेरे राजा मेरे बुर को अपने वीर्य से भर दो । मामी के चूत़

फिर मै अपनी स्पीड बढ़ा कर चोदना चालू किया और बोलते हुए के और जोर से और जोर से चोदो और तेज चोदो मुझे मै भी बोल रहे रण्डी बुर चोदी आज तेरा बुर का भोसड़ा बना दिया आह अह आह कहे हुए हम दोनों एक साथ झड़ गए । और एक घ घंटे के बाद जगे ..
तो दोस्तों कैसी लगी यह कहानी उम्मीद है अच्छा लगा होगा जरूर कॉमेंट करिएगा..
अगली कहानी मै मामी कसर अपने सहेली को भी मज़ा दिलाया बताऊंगा.…अगले कड़ी में मामी के चूत़

मामी के चूत़ :> incestsexstories.in

50% LikesVS
50% Dislikes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *